कार्यक्रम

कार्यक्रम

औद्योगिक सौर ऊर्जा समिति

image ऊर्जा किसी राष्ट्र की प्रगति, विकास और खुशहाली का प्रतीक होती है। भारत जीवाश्म ईंधन में आत्मनिर्भर नहीं है, इसके अलावा वैश्विक स्तर पर भी जीवाश्म ईंधन तेजी के साथ दुर्लभ होता जा रहा है। ऐसे में उनके सही उपयोग तथा संरक्षण की आवश्यकता है।

फिर एक प्रयास ट्रस्ट भारत में ऊर्जा दक्षता में सुधार लाने के लिए और ऊर्जा संरक्षण को देश में एक राष्ट्रीय मिशन बनाने का प्रयास कर रही है | इसके अतिरिक्त नवीकरणीय ऊर्जा के स्थानीय तौर पर उपलब्ध् स्रोतों का भी अधिकतम उपयोग करना होगा। इसके अलावा भारत जैसे विकासशील और सघन जनसंख्या वाले देश में बेरोजगारी तथा रोजगार की कम उपलब्ध्ता एक सामान्य बात है | देश में ऊर्जा संरक्षण तथा नवीकरणीय ऊर्जा परियोजनाओं को प्रोत्साहन देने के लिए कई गैर बैंकिंग वित्तीय संस्थान काम कर रहे हैं।

फिर एक प्रयास की औद्योगिक सौर ऊर्जा समिति उद्योगों के लिए सौर सहायता प्रदान करने के लिए प्रतिबद्ध है |

फिर एक प्रयास

Rural Solar Energy Committee

image फिर एक प्रयास की ग्राम सौर ऊर्जा समिति भारत के गाँवों को सौर ग्राम ऊर्जा सुरक्षा कार्यक्रम से जोड़ता है , जिसमे ऊर्जा प्रौद्योगिकियां दूरदराज के ऐसे गांवों में विद्युतीकरण सुविधा प्रदान करने के लिए जो ग्रिड विस्तार कार्यक्रम के दायरे में नहीं आए हैं। हमारा यह कार्यक्रम गांवों में कुकिंग, सौर बिजली , बायो गैस और अन्य ऊर्जा संसाधनों की जरूरतो को पूरा करता है |
यह कार्यक्रम गैर-सरकारी संगठनों , उद्यमियों , फ्रेंचाइजिज आदि द्वारा संचालित किया जाती है। इसके लिए उनको बैंक से सस्ते दरो पर वित्तीय सहायता भी उपलब्ध् करवाई जाती है । हर गाँव में खाना पकाने के आधुनिक स्टोव्स की फैब्रीकेशन तथा ऊर्जा दक्षता और धूंआ रहित बायोमास इकाइयों की स्थापना, सामुदायिक बायोगैस संयंत्रों आदि की स्थापना करना ग्राम सौर ऊर्जा समिति का पहला लक्ष्य है ।
ऊर्जा संरक्षण और नवीकरणीय ऊर्जा क्षेत्र में कोई उद्यम शुरू करते हुए जहां संबंधित व्यक्ति को पृथ्वी ग्रह की देखरेख से संतुष्टि मिलती है वहीं अपने जीवनयापन के लिए आय भी प्राप्त होती है।
फिर एक प्रयास ग्राम सभा सशक्तिकरण के लिए प्रयासरत है | समग्र ग्रामीण विकास के लिए ग्रामसभा का सशक्तिकरण होना ज़रूरी है |
भारतीय ग्रामीण समाज सदा से वैश्विक आकर्षण का केंद्र रहा है । इसका सरल, शांत, सामाजिक-आर्थिक जीवन प्राचीन समय से सामाजिक, आर्थिक व राजनीतिक वैज्ञानिकों को आकर्षित करता रहा है। आंद्रे बेते लिखते हैं ‘‘गांव केवल वह स्थान नहीं है, जहां लोग रहते हैं, यह वह अभिकल्पना है जिसमें भारतीय सभ्यता के आधारभूत मूल्य दिखाई देते हैं’’। महात्मा गांधी का मानना था कि सत्य और अहिंसा का बोध केवल गांव के सरल जीवन में ही हो सकता है। उनका कहना था कि भारत की आत्मा गांवों में ही बसती है।
भारत ऐसा पहला देश है जहां पर स्थानीय स्वशासन के प्राचीनकालीन प्रमाण मिलते हैं। यहां प्राचीन समय से ही स्थानीय स्वशासन की सबसे छोटी इकाई ग्राम थी जहां का प्रमुख ग्रामीण होता था। प्रायः देखने में आता है कि पंचायती राज व्यवस्था की महत्वपूर्ण इकाई ग्रामसभा की नियमित बैठकें नहीं हो पाती हैं। इसमें होने वाले विचार-विमर्श, नीति निर्माण, कार्य योजनाएं आदि बनाने के लाभों से इसी कारण हम वंचित रह जाते हैं। 73वें संविधान संशोधन के द्वारा ग्रामसभा को संवैधानिक मान्यता प्रदान की गई है। फिर एक प्रयास से जुड़े प्रत्येक गाँव में ग्राम सभा की नियमित बैठक हो इसके लिए हम प्रयासरत है |
ग्रामसभा को शक्ति व कार्य की जिम्मेदारी सौंपने के लिए राज्य सरकारों को उत्तरदायित्व सौपा गया है। साथ ही संविधान की 11वीं अनुसूची में 29 विषयों की सूची पंचायतों को दी गई जिन पर योजना बनाने, क्रियान्वयन करने तथा मूल्यांकन करने की शक्ति ग्रामसभा के हाथ में आ गई। परन्तु समस्या यह है कि ग्रामसभा की नियमित बैठकें ही नहीं हो पाती हैं। इस वजह से न कोई सर्वस्वीकृत योजना बन पाती है और न ही उस पर सामूहिक रूप से विचार-विमर्श ही हो पाता है।
ग्रामसभा की बैठक न होने के पीछे कई कारण हैं, सबसे पहले तो सभी लोगों तक इसकी सूचना ही नहीं पहुंच पाती है। दूसरे, अधिकतर लोग इसके प्रति उदासीन भी होते हैं। तीसरे,ग्रामसभा की बैठकों में शामिल होने के लिए अधिकांश पंचायतों में ग्रामीणों को दूर तक जाना होता है और इसमें पूरा एक दिन लग जाता है। लोग अपनी मजदूरी छोड़ कर इसमें जाना पसंद नहीं करते। इस समस्या के समाधान के लिए फिर एक प्रयास ट्रस्ट ग्रामीणों में इसके प्रति जागरुकता लाने का काम कर रहा है ।

Solar Energy Education Committee

image भारत में 10, 80,000 से अधिक प्राथमिक स्कूल, 33,620 कॉलेज, 152 केन्द्रीय विश्वविद्यालय, 316 राज्य स्तरीय विश्व विद्यालय एवं 191 निजी विश्वविद्यालय हैं | इसके साथ ही भविष्य में विद्यार्थियों की बढ़ती संख्या को समायोजित करने के लिए बड़ी संख्या में नये नये स्कूल, शिक्षा संस्थाएं व विश्व विद्यालयों का निर्माण देश भर में हो रहा है | इतनी बड़ी मात्रा में शिक्षा संस्थाओं की मौजूदगी से देश की उर्जा जरूरतों पर काफी अधिक दबाव पड रहा है| इन उर्जा जरूरतों को विशेष कर बिजली की जरुरत को पूरा करने के लिए पारंपरिक ऊर्जा के स्त्रोत जैसे कोयला, गैस,पेट्रोलियम पदार्थ आदि का थर्मल पॉवर प्लांटों में बड़े पैमाने पर उपयोग किया जा रहा है| किन्तु भविष्य में ये पदार्थ एक दिन समाप्त होने ही हैं, इस आशंका को ध्यान में रखते हुये वैज्ञानिकों ने उर्जा के नये एवं अक्षय स्त्रोतों की ओर ध्यान देना शुरू किया है | ऐसा ही एक स्त्रोत है सौर उर्जा | आईये हम सब इस सौर ऊर्जा शिक्षा समिति का हिस्सा बनकर राष्ट्रहित में योगदान करे |

सौर महिला सशक्तीकरण

image सौर महिला सशक्तीकरण

युवा सौर रोज़गार

image युवा सौर रोज़गार.

युवा सौर रोज़गार


सौर ऊर्जा मिशन 2,030

image पर्यावरण पर प्रभाव, ईंधन की बढ़ती लागत और घटते भंडार ने ऊर्जा के वैकल्पिक स्रोत खोजने की ओर विश्व का ध्यान आकर्षित किया है। सूर्य से ऊर्जा या सौर ऊर्जा में असीम क्षमता है। इसके कई फायदे भी हैं। यह किफायती होने के साथ ही आसानी से उपलब्ध है और पर्यावरण के अनुकूल भी है|
• गैर - प्रदूषणकारी: सौर विद्युत उत्पादन में किसी प्रकार का उत्सर्जन पैदा नहीं होता है। • विनाशकारी नहीं: सौर ऊर्जा को खनन और पाइपलाइन बिछाने के पर्यावरण विनाशकारी प्रक्रियाओं के बिना एकत्र किया जा सकता है।
ऊर्जा संरक्षण का महत्व गांधी जी ने कहा था कि पृथ्वी हर आदमी की जरूरतों को पूरा करने के लिए पर्याप्त साधन संसाधन प्रदान करती है, लेकिन हर आदमी के लालच को पूरा करने के लिए नहीं।
फिर एक प्रयास का मानना है कि देश के पृथ्वी , जल और वायु हमारे माता पिता से प्राप्त हमारे लिए एक उपहार नहीं है ,बल्कि हमारे बच्चों के लिए कर्ज़ है। इसलिए हमें ऊर्जा संरक्षण को एक आदत बनाने की जरूरत है।
आईये फिर एक प्रयास ट्रस्ट के साथ मिलकर २०३० तक सौर ऊर्जा को देश के अंतिम व्यक्ति तक पहुचाने का संकल्प करे |

लोगों से अपील

फिर एक प्रयास की देश की जनता से अपील । फिर एक प्रयास देश की आम जनता से ये अपील करता है कि एक जागरुक नागरिक होने के करण हम उसी प्रत्याशी को चुनाव मे वोट करे जिसकी आपनी स्पष्ट ऊर्जा नीतिया होगी| प्रकृति और पर्यावरण की सुरक्षा के लिए सब साथ आये और एक जुट हो| फिर एक प्रयास

हमारी सरकार के लिए मांग

image फिर एक प्रयास एक सामाजिक संस्था है और सौर ऊर्जा संरक्षण को राष्ट्रीय मुद्दा बनाने के लिये प्रयासरत है| फिर एक प्रयास देश के सभी राजनीतिक दलों और राजनेताओ से संपर्क अभियान कर रहा है जिसके अंतरगत निम्नलिखित बिन्दुओं पर सहमति के लिये राय और चर्चा की जा रही है| 1. हमारी सभी दलो से ये अनुरोध है कि देश की राजनीतिक पार्टियाँ अपने एजेडे मे "सौर ऊर्जा और पर्यावरण" को अहम मुद्दा बनाये| 2. सभी दलो की सौर ऊर्जा और पर्यावरण संरक्षण के लिये अपनी स्पष्ट नीतियाँ हो

स्वदेशी वॉलमार्ट


स्वदेशी वॉलमार्ट फिर एक प्रयास द्वारा चलाया जा रहा अब तक का सबसे अनोखा प्रयोग है|इसकी विस्तृत जानकारी के लिये आप स्वदेशी वॉलमार्ट वेबसाइट पर log on कर सकते है| www.swadeshiwalmart.com

सौर शिक्षा नीति

जब हम देश में शिक्षा विकास औऱ तकनीक की बात करते हैं तो एक सवाल उठता है कि उसकी गति में रह रहकर ब्रेक क्यों लग जाता है ? इसका एक मात्र कारण है विकास के लिए बुनियादी जरूरत में कमी का होना। और वो बुनियादी जरूरत है बिजली । कोई देश कैसे वैश्विक ताक़त बनने के ख़्वाब देख सकता है, जिसकी आधी से ज्यादा आबादी बिजली की बड़ी किल्लत से दो-चार हो। अगर ग्रामीण इलाक़ों की बात करें तो वहां हालत और भी बदतर है। कई राज्यों की स्थिति यह है कि अभी गाँवों तक बिजली ही नहीं पहुँची है। जहाँ बिजली पहुँच भी गई है वहाँ कभी कुछ घंटों के लिए ही बिजली आती है और कहीं कभी-कभी आती है। बिजली की ऐसी विकट समस्या के रहते हुए क्या भारत वास्तव में महाशक्ति बन सकता है ? सच कहें तो बिल्कुल नहीं । 21 सदी में बिजली के बिना विकास नामुमकिन है । चलिए थोड़ी देर के लिए देश की भौगोलिक संरचना को जिम्मेदार मानते हुए कह दें कि अलग-अलग भौगोलिक स्थिति होने से देश के कई इलाकों तक बिजली नहीं पहुंच पाया है। लेकिन, सूर्य की रोशनी किसी भी संरचना की मोहताज नहीं होती। दुनिया में परंपरागत उर्जा स्रोत न केवल सीमित है, बल्कि हमें कई उर्जा उत्पादों के लिए दूसरे देशों पर निर्भर रहना पड़ता है। अगर देश से अज्ञानता, असमानता और बेरोजगारी को मिटाना है तो गाँव और शहर में 24 घंटे बिजली की व्यवस्था करनी होगी, जिसके लिए सौर उर्जा ही एक मात्र स्थायी विकल्प है। सूर्य की रोशनी का इस्तेमाल कर सौर उर्जा पैदा कर हमें आत्मनिर्भर बनना ही पड़ेगा। सौर ऊर्जा में शुरू में लागत भले ज़्यादा हो, लेकिन चूँकि इसको चलाने का ख़र्च नहीं है, इसलिए दीर्घकाल में यह लागत ज़्यादा नहीं होगी। ऐसे में सौर ऊर्जा को सामान्य बिजली में बदलने का प्रयोग कामयाब हो गया तो गाँवों और कस्बों में न केवल कंप्यूटर शिक्षा, बल्कि दूसरे अनेक क्षेत्रों में भी रोज़गार पनप सकते हैं। सौर उर्जा के माध्यम से जहां किसान खेतों की सिचाई सोलर पंप से कर सकेंगे वहीं अंधेरे में जीवन व्यतीत कर रहा ग्रामीण भारत का बड़ा हिस्सा भी रोशनी से जगमगा उठेगा। इसके लिए जरूरत इस बात कि है कि ग्रामीण क्षेत्रों में सौर उर्जा और उससे जुड़े साजोसामान का चलन बढाया जाए। और फिर वो दिन दूर नहीं होगा जब गांवों में साइकिल मरम्मत की दुकानों की तरह उन इलाकों में भी सौर उर्जा से चलने वाले छोटे-मोटे उपकरणों का निर्माण और मरम्मत की दुकानें भी देखे जा सकते हैं, जो स्थानीय रोजगार भी उपलब्ध कराएगा। और ये तभी संभव है जब हमारी अपनी सौर शिक्षा की नीतियाँ होगी | फिर एक प्रयास अपनी सौर शिक्षा समिति के माध्यम से भारत के शिक्षा संस्थानों के लिए सौर शिक्षा नीतियाँ बनाने का प्रयास कर रहा है | फिर एक प्रयास

ग्राम सभा की अधिकारिता

फिर एक प्रयास का मानना है कि ग्राम सभा का सशक्तिकरण भारतीय लोकतंत्र का सशक्तिकरण है । हमारे देश में वर्तमान में राजनीतिक सत्ता का विकेन्द्रीकरण सबसे बड़ी आवश्यकता है। भारत की लगभग 65 प्रतिशत जनसंख्या गांवों में निवास करती है। महात्मा गांधी जी कहा करते थे कि ‘मेरा भारत गांव में बसता है’ केन्द्र या राज्य सरकार के लिए संभव नही है कि वह दूरस्थ क्षेत्रों में निवासरत गांवों की समस्याओं का समुचित समाधान कर सकें। इसलिए यह आवश्यक प्रतीत होता है कि प्रत्येक गांव में स्वशासन हो जिससे कि वह अधिक से अधिक समस्याओं को दूर करने की क्षमता रख सकें, तभी देश का वास्तविक विकास संभव होगा तथा गांव में बसे ग्रामीण नागरिक एक अच्छा जीवन व्यतीत कर सकेगें |स्थानीय शासन की सबसे बड़ी विशेषता सत्ता का विकेन्द्रीकरण है। इसके द्वारा राजनीतिक सत्ता अधिक से अधिक लोगों के हाथों में पहुँच जाती है।
ग्रामसभा का सशक्तिकरण किस प्रकार हो इस हेतु फिर एक प्रयास ग्राम सभा का कोरम पूरा करने और गांव में विकेन्द्रीकरण के जरिये ग्रामीण जनता की सीधे भागीदारी करवाने के प्रयास में सक्रीय है |
फिर एक प्रयास

फिर एक प्रयास द्वारा ग्राम सभा सशक्तिकरण के लिए सुझाव :-
1. ग्राम पंचायत सरपंच, पंच, सदस्यों, सचिवों को ग्राम सभा आयोजित करने हेतु प्रेरित किया जावे। प्रोत्साहन स्वरूप वर्ष में सर्वाधिक एवं सफल आयोजित ग्राम सभाओं को पुरूस्कार दिया जावे।
2. ग्राम सभा के सुव्यवस्थित आयोजन हेतु नामांकित नोडल अधिकारी को सौंपे दायित्वों की समीक्षा मुख्य कार्यपालन अधिकारी जनपद पंचायत द्वारा सत्त रूप से की जावे।
3. ग्राम सभा सदस्यों को ग्राम सभा का एजेण्डा एवं सूचना की तामीली सुनिश्चित करवाने के लिए "सूचना प्राप्ति रजिस्टर" संधारित किया जावे।
4. ग्राम सभा की बैठक में ग्राम सभा सदस्य अधिक संख्या में उपस्थित होवें एवं बैठक की सूचना उन्हें समय पर मिले , जिसके अंतर्गत सभा की लिखित सूचना तथा सदस्यों के घर जाकर बैठक में आमंत्रित किया जाये ।
5. ग्राम सभा बैठक स्थल में बिछावन, पेयजल व्यवस्था के साथ वातावरण सुन्दर बनाने हेतु साज सजावट किये जाये |
6. सभा स्थल पर पंचायत एवं हितग्राहियों से संबंधित योजनाओं के पोस्टर तथा बेनर लगाये जायें।
7. बैठक की शुरूआत प्रेरणा गीत से की जावे।
8. बैठक के एजेण्डा अनुसार संबंधित जानकारी पूर्व से ही तैयार कर रखी जावे। संबंधित विभागों के अधिकारी/ कर्मचारियों को ग्राम सभा में जानकारी के साथ उपस्थित रहने हेतु पूर्व से सूचित किया जावे।
9. ग्राम सभा की तिथि तय करते समय ग्राम सभा सदस्यों की उपलब्धता का ध्यान रखा जावे।
10. ग्राम सभा में रखे जाने वाले अभिलेखों को सचिव द्वारा पूर्व से तैयार कर लिये जावें।
11. ग्राम सभा की बैठक निर्धारित समय पर प्रारंभ हो। एक बार बैठक प्रारंभ होने के उपरांत आने वाले सदस्यों के दस्तखत उपस्थिति पंजी में न लिये जावें।
12. पूर्व की बैठकों में लिये जाने वाले निर्णयों की समीक्षा एवं उनका क्रियान्वयन सुनिश्चित किया जावे।

तथ्यों

इतने सारे अच्छे कारण
image

हमारी दृष्टि से हमारे दैनिक व्यक्तिगत, घरेलू और औद्योगिक काम कर जीवन में ऊर्जा के वैकल्पिक प्राकृतिक स्रोतों को प्रेरित हमारे पर्यावरण को स्वच्छ और हरे रंग बनाने है। फिर एक प्रयास की प्राथमिकी दृष्टि से वैश्विक सामाजिक सामूहिक रूप से राष्ट्र की सेवा के लिए नेटवर्क बनाना है।

image

फिर एक प्रयास का मिशन हर वर्ग के लिए सोलर ऊर्जा का एक मुख्य / प्राथमिक स्रोत के रूप में वैकल्पिक / माध्यमिक ऊर्जा स्रोत बनाने के लिए क्षेत्र के लिए सामाजिक जागरूकता और सेवा प्रदान करना है। हमारे प्राथमिक मिशन भारत के सभी नागरिक के लिए प्राकृतिक रूप से स्वस्थ स्तर में सुधार करना है।

image

हम मूल्य क्या हम मानवता के बारे में दृढ़ता से महसूस करते हैं। हम मूल्य क्या हमारे लिए महत्वपूर्ण है। हम मानते हैं कि मूल्य क्या है हमें खुश कर देगा। हमारे मूल्यों हमारे स्वस्थ, समाज, मित्रों और रचनाकारों से आता है। हमारे मूल्यों हमें गाइड। हम सही जो हमें स्वस्थ और खुशी लाने के महत्व देते हैं।

image

हम सभी मनुष्यों में विश्वास बराबर हैं। जिम्मेदारी और नि: स्वार्थ सेवा के एक दृष्टिकोण सच सशक्तिकरण की नींव हैं। शांति, सुख और करुणा मनुष्य के स्वभाव हैं।

शुक्रगुजार

वे हमारे बारे में क्या कहना है ?
  • testimonial 1
  • testimonial 2
  • testimonial 3
  • testimonial 4

फिर एक प्रयास द्वारा ग्रामीण क्षेत्रों में सौर ऊर्जा के बारे में जागरूकता में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं, यह फिर एक प्रयास द्वारा एक बड़ी पहल है

- ग्रामवासी,

फिर एक प्रयास द्वारा ग्रामीण क्षेत्रों में सौर ऊर्जा के बारे में जागरूकता में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं, यह फिर एक प्रयास द्वारा एक बड़ी पहल है

- ग्रामवासी, in

फिर एक प्रयास द्वारा ग्रामीण क्षेत्रों में सौर ऊर्जा के बारे में जागरूकता में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं, यह फिर एक प्रयास द्वारा एक बड़ी पहल है

- ग्रामवासी, i

फिर एक प्रयास द्वारा ग्रामीण क्षेत्रों में सौर ऊर्जा के बारे में जागरूकता में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं, यह फिर एक प्रयास द्वारा एक बड़ी पहल है

- ग्रामवासी,